Kautilya Academy-Best Mppsc Coaching Classes in Indore | Mppsc

Description

Madhya Pradesh Public Service Commission conducts the State level Civil Service Examination for recruitment to various posts in the government departments and offices of the state of Madhya Pradesh. This exam is conducted in two stages namely the Preliminary Exam and the Main Exam. Following the IAS exam pattern aspirants who clear the prelim exam are allowed to appear for the main exam. Here also interview is the final stage to get selected. However, the best candidates are admitted to various posts in the respective government departments. MPPSC State Service Exam is conducted for the post of Sub Collector, Deputy Superintendent of Police, Superintendent, District Jail, Commercial Tax Officer, District Registrar, Chief Municipal Officer (Group B), Assistant Director, Assistant Director, District Supply Officer, Assistant Director, Child Development Project Officer, Assistant Regional Transport Officer (ARTO).

State Service Exam is conducted for recruitment to various posts in government departments and offices of the state of Madhya Pradesh. This exam is conducted in two stages namely the preliminary exam and the main exam. Following the IAS exam pattern aspirants who clear the prelim exam are allowed to appear for the main exam. The number of candidates admitted to appear for the main exam is fifteen times more than the number of available vacancies. However the best candidates who clear the main exam and the following procedure are admitted to various posts in respective government department.
The Madhya Pradesh Public Service Commission was constituted in 1956. One of the major functions of MPPSC is recruitment of suitable candidates to the State Services by Direct Selection, Promotions, or Transfers.For the direct selection process, the commission conducts State Service Examination. For details about the eligibility, examination pattern, and optional subjects check the respective links. The Commission is also consulted on all disciplinary matters affecting a person serving under Government of India or the Government of a State in a civil capacity.

Contact Address Madhya Pradesh Public Service Commission Residency Area, Indore (MP) 452 001 Telephone : (0731) 2701624, 2701983.


toppers


MPPSC Eligibility Criteria 2020-21:-


The detailed MPPSC exam Eligibility criteria, Age limit, Qualifications, and Physical Conditions are given below:-

The MPPSC (Madhya Pradesh Public Service Commission) is the authority that specifies the Eligibility Criteria for candidates for the state service 2021 exam. The MPPSC age limit, qualification, and rules of domicile explained in this section. It will help candidates understand their chances of appearing for the MPPSC examination 2021 based on the 2020-21 eligibility criteria. For convenience, we have also added the physical requirements for the Police Services exam 2021 specified by MPPSC this is based on the MPPSC Previous year eligibility requirement.


  1. The candidate must be a Citizen of India.

  2. Male candidates with more than one wife (living) are not eligible.

  3. Female candidates who have married a person already having a wife (living) are not eligible.

  4. Candidates claiming age relaxation/reservation in more than one category for the MPPSC Exam shall be entitled to only one concession, whichever is more beneficial.

  5. Candidates who are declared guilty by the court for a crime against women will not be eligible for the examination. However, the candidates against whom the court verdict for the said cases are due, may sit for the examination but will be posted only after the final verdict is out (And he/she isn’t guilty).

 

Age Limit & Relaxation MPPSC 2020-21:-

The age limit for MPPSC State Service Exam 2020-21:

For Non-Uniformed Post

  • Minimum age – 21 years

  • Maximum age – 40 years (Candidates should not complete 40 years)

  • For Women (UR, PwD), Men, Women (SC, ST, OBC etc) – Maximum Age is 45

For Uniformed-Post

  • Minimum Age – 21 years

  • Maximum age – 33 years (Candidates should not complete 33 years)

  • For Women (UR), Men, Women (SC, ST, OBC etc) – Maximum age is 38.

Note:- The age limit will be computed as per of 1st January 2021.

 

 

Category

Age Relaxation

SC/ST/OBC Domiciles of Madhya Pradesh

5 Years Relaxation

All Women candidates irrespective of their domicile

10 Years Relaxation

Physically-handicapped

5 Years Relaxation

Vikram Award- honoured sportsmen

5 Years Relaxation

Personnel From Defence Services 

3 Years Relaxation

Candidates Green card holders under the Family Welfare Programme

2 Years Relaxation

Widow, divorcee or abandoned at the time of her first appointment

5 Years Relaxation

Burma, Sri Lanka, Bangladesh and Vietnam’s bonafide repatriate of Indian origin holding Indian Passport

3 Years Relaxation

 

Minimum Educational Qualification: -

  1. Candidates must hold a Bachelor’s Degree from any recognised University or equivalent qualification.

  2. Candidates possessing Professional and Technical qualifications, which are recognized by the State Government as equivalent to a Professional or Technical degree.

  3. Such candidates, who have appeared in any examination in which after passing, they are under academic examination under the Commission's examination. But the result of which has not been announced and the candidates who want to appear in such non-examination With the intention, they will be Eligible for admission to the pre-examination. For all such candidates who have appeared in the State Service Main Examination required to pass Graduate / equivalent by the last date to apply for the main examination. Candidates who have not passed graduation / equivalent till the last day to submit the application for the main examination shall Not be Eligible to apply for the main examination. Before The interview It will be mandatory to present the mark of passing the important examination along with the approval letter.

  4. Such Candidates who have professional or technical qualifications, which are Equivalent to technical degrees recognized by the State Government will be Eligible for admission to the examination.

  5.  For the post of District/Area Convenor and Tribal Welfare Department preference will be given to those candidates who have taken sociology as a subject at the graduation level. Preferred means that in the event of having equal marks, the final selection of candidates will depend on the alphabetical order who has taken Sociology as a subject at the undergraduate level.

Domicile Rule for MPPSC 2020-21:-

Candidates applying for MPPSC exam 2021 for State Services must check the following domicile rules -

  • The candidates must be permanent residents of Madhya Pradesh.

  • The candidate must have completed his/her higher education, i.e., 10th & 12th from Madhya Pradesh.  

  • Only the candidates who satisfy the above domicile rules are eligible to register for MPPSC 2021 exam for state services.

Physical Requirements:-

 

Post 

Gender

Height (in cms)

Chest Girth (in cms)

Without Expansion

Fully Expanded

State Police Service (DSP)

Male

168

84

89

Female

155

Not Required

Not Required

District Commandant, Home Guards

Male

165

84

89

Female

155

Not Required

Not Required

District Excise Officer

--

163

84

89

Superintendent, District Jail

Male

168

84

89

Female

155

Not Required

Not Required

Excise, Sub-Inspector

Male

165

81

86

Female

152.4

Not Required

Not Required

Assistant Jailor

Male

165

84

--

Female

158

Not Required

Not Required

Transport Sub-Inspector

--

165

81

--

 

MPPSC पात्रता मानदंड 2020-21: -

 

विस्तृत एमपीपीएससी परीक्षा पात्रता मानदंड, आयु सीमा, योग्यता और भौतिक शर्तें नीचे दी गई हैं: -

 

MPPSC (मध्य प्रदेश लोक सेवा आयोग) वह अधिकार है जो राज्य सेवा 2021 परीक्षा के लिए उम्मीदवारों के लिए पात्रता मानदंड को निर्दिष्ट करता है। MPPSC की आयु सीमा, योग्यता और अधिवास के नियम इस खंड में बताए गए हैं। यह उम्मीदवारों को 2020-21 पात्रता मानदंड के आधार पर एमपीपीएससी परीक्षा 2021 के लिए उपस्थित होने की उनकी संभावनाओं को समझने में मदद करेगा। सुविधा के लिए, हमने MPPSC द्वारा निर्दिष्ट पुलिस सेवा परीक्षा 2021 के लिए भौतिक आवश्यकताओं को भी जोड़ा है। यह MPPSC पिछले वर्ष की पात्रता आवश्यकता पर आधारित है।

  1. उम्मीदवार को भारत का नागरिक होना चाहिए।

  2. एक से अधिक पत्नी (जीवित) वाले पुरुष उम्मीदवार पात्र नहीं हैं।

  3. जिन महिला उम्मीदवारों ने पहले से ही पत्नी (जीवित) होने वाले व्यक्ति से शादी की है, वे पात्र नहीं हैं।

  4. MPPSC परीक्षा के लिए एक से अधिक श्रेणी में आयु छूट / आरक्षण का दावा करने वाले उम्मीदवार केवल एक रियायत के हकदार होंगे, जो भी अधिक लाभदायक हो।

  5. महिलाओं के खिलाफ अपराध के लिए अदालत द्वारा दोषी घोषित किए गए उम्मीदवार परीक्षा के लिए पात्र नहीं होंगे। हालांकि, उम्मीदवार जिनके विरुद्ध उक्त मामलों में अदालत का फैसला आने वाला है, वे परीक्षा में बैठ सकते हैं, लेकिन अंतिम फैसला आने के बाद ही उन्हें पोस्ट किया जाएगा (और वह दोषी नहीं है)।

 

MPPSC 2020-21 आयु सीमा और छूट: -

MPPSC राज्य सेवा परीक्षा 2020-21 के लिए आयु सीमा:

गैर-वर्दी वाला पोस्ट के लिए:-

  • न्यूनतम आयु - 21 वर्ष

  • अधिकतम आयु - 40 वर्ष (अभ्यर्थी को 40 वर्ष पूरा नहीं करना चाहिए)

  • महिलाओं के लिए (UR, पीडब्ल्यूडी), पुरुष, महिला (एससी, एसटी, ओबीसी आदि) - अधिकतम आयु 45 है

वर्दी वाला पोस्ट के लिए:-

  • न्यूनतम आयु - 21 वर्ष

  • अधिकतम आयु - 33 वर्ष (उम्मीदवारों को 33 वर्ष पूरा नहीं करना चाहिए)

  • महिलाओं (UR), पुरुषों, महिलाओं (एससी, एसटी, ओबीसी आदि) के लिए - अधिकतम आयु 38 है।

नोट: - आयु सीमा 1 जनवरी 2021 के अनुसार गणना की जाएगी।

 

 

वर्ग

आयु में छूट

मध्य प्रदेश के एससी / एसटी / ओबीसी डोमिसाइल

5 साल की छूट

सभी महिला उम्मीदवार अपने अधिवास की परवाह किए बिना

10 साल की छूट

शारीरिक रूप से विकलांग

5 साल की छूट

विक्रम अवार्ड- सम्मानित खिलाड़ी

5 साल की छूट

रक्षा सेवाओं से कार्मिक

3 साल की छूट

परिवार कल्याण कार्यक्रम के तहत उम्मीदवार ग्रीन कार्ड धारक

2 साल की छूट

अपनी पहली नियुक्ति के समय विधवा, तलाकशुदा या परित्यक्ता

5 साल की छूट

बर्मा, श्रीलंका, बांग्लादेश और वियतनाम के भारतीय पासपोर्ट रखने वाले भारतीय मूल के बोनाफाइड प्रत्यावर्तन

3 साल की छूट

 

 

न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता: -

  1. उम्मीदवारों को किसी भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से स्नातक की डिग्री या समकक्ष योग्यता होनी चाहिए।

  2. पेशेवर और तकनीकी योग्यता रखने वाले उम्मीदवार, जिन्हें राज्य सरकार द्वारा व्यावसायिक या तकनीकी डिग्री के समकक्ष मान्यता दी जाती है।

  3. ऐसे उम्मीदवार, जो किसी भी परीक्षा में उपस्थित हुए हैं, जिसमें उत्तीर्ण होने के बाद, वे आयोग की परीक्षा के तहत अकादमिक परीक्षा से गुजर रहे हैं। लेकिन जिसके परिणाम की घोषणा नहीं की गई है और जो उम्मीदवार इस तरह की गैर-परीक्षा में उपस्थित होना चाहते हैं, इस इरादे से, वे पूर्व परीक्षा में प्रवेश के लिए पात्र होंगे। ऐसे सभी उम्मीदवार जो राज्य सेवा मुख्य परीक्षा में उपस्थित हुए हैं, मुख्य परीक्षा में आवेदन करने के लिए अंतिम तिथि तक स्नातक / समकक्ष उत्तीर्ण होना आवश्यक है। जिन उम्मीदवारों ने मुख्य परीक्षा के लिए आवेदन जमा करने के लिए अंतिम दिन तक स्नातक / समकक्ष उत्तीर्ण नहीं किया है, वे मुख्य परीक्षा के लिए आवेदन करने के पात्र नहीं होंगे। साक्षात्कार से पहले अनुमोदन पत्र के साथ महत्वपूर्ण परीक्षा उत्तीर्ण करने का चिह्न प्रस्तुत करना अनिवार्य होगा।

  4. ऐसे उम्मीदवार जिनके पास पेशेवर या तकनीकी योग्यता है, जो राज्य सरकार द्वारा मान्यता प्राप्त तकनीकी डिग्री के समतुल्य हैं, परीक्षा में प्रवेश के लिए पात्र होंगे।

  5. जिला / क्षेत्र संयोजक और आदिम जाति कल्याण विभाग के पद के लिए उन उम्मीदवारों को वरीयता दी जाएगी जिन्होंने स्नातक स्तर पर एक विषय के रूप में समाजशास्त्र लिया है। पसंदीदा का मतलब है कि समान अंक होने की स्थिति में, उम्मीदवार का अंतिम चयन वर्णानुक्रम पर निर्भर करेगा, जिसने स्नातक स्तर पर एक विषय के रूप में समाजशास्त्र लिया है।

MPPSC 2020-21 के लिए अधिवास नियम: -

राज्य सेवाओं के लिए एमपीपीएससी परीक्षा 2021 के लिए आवेदन करने वाले उम्मीदवारों को निम्नलिखित अधिवास नियमों की जांच करनी चाहिए -

  • उम्मीदवारों को मध्य प्रदेश का स्थायी निवासी होना चाहिए।

  • उम्मीदवार ने अपनी उच्च शिक्षा, अर्थात् 10 वीं और 12 वीं मध्य प्रदेश से पूरी की हो।

  • केवल उपरोक्त अधिवास नियमों को संतुष्ट करने वाले उम्मीदवार राज्य सेवाओं के लिए एमपीपीएससी 2021 परीक्षा के लिए पंजीकरण करने के लिए पात्र हैं।

शारीरिक आवश्यकताएं:-

पद

लिंग

लम्बाई (सेंटीमीटर मे)

चेस्ट परिधि (सेमी में)

बिना विस्तार के

पूरी तरह से विस्तारित

राज्य पुलिस सेवा (DSP)

पुरुष

168

84

89

महिला

155

आवश्यक नहीं

आवश्यक नहीं

जिला कमांडेंट, होमगार्ड्स

पुरुष

165

84

89

महिला

155

आवश्यक नहीं

आवश्यक नहीं

जिला आबकारी अधिकारी

--

163

84

89

अधीक्षक, जिला जेल

पुरुष

168

84

89

महिला

155

आवश्यक नहीं

आवश्यक नहीं

आबकारी, उपनिरीक्षक

पुरुष

165

81

86

महिला

152.4

आवश्यक नहीं

आवश्यक नहीं

सहायक जेलर

पुरुष

165

84

उल्लेख नहीं

महिला

158

आवश्यक नहीं

आवश्यक नहीं

परिवहन उप-निरीक्षक

--

165

81

उल्लेख नहीं


MPPSC State Services Prelims Exam Pattern 2021 :-


The Preliminary Exam pattern of MPPSC 2021 is given below.



Name of the Subject

Marks 

Duration

Paper 1 (General Studies)

200

2 Hours

Paper 2 (CSAT/ General Aptitude)

200

2 Hours

Total :-

400

4 Hours



  • Each paper will consist of a total of 100 questions and for each right answer student will get 2 marks.

  • The prelims stage has a total of 400 marks and total duration of which is 4 hours.

  • There is no negative marking for the Prelims of MPPSC State service exam, hence a candidate is suggested to answer the 100% question in the exam.

  • The Question paper will be in Both English and Hindi Languages.

  • The candidates appearing for the exam shall be provided an OMR Sheet to mark the answers. Candidates should make sure that they mark the entire circle properly.

  • Candidates are strictly advised to read the instructions properly given in the OMR Sheet.

  • Only the candidates who clear both the papers and achieve the cutoff marks determined by Madhya Pradesh Public service commission (MPPSC), will be qualified for the mains exam.

 

MPPSC State Service Mains & Interview Exam Pattern 2021:-


The Mains and Interview Exam pattern of MPPSC 2021 is given below.



Name Of Subjects

Marks

Duration

Paper-1 : General Studies-I

300

3 Hours

Paper-2 : General Studies-II

300

3 Hours

Paper-3 : General Studies-III

300

3 Hours

Paper-4 : General Studies-IV

200

3 Hours

Paper-5 : General Hindi

200

3 Hours

Paper-6 : Hindi Essay Writing

100

2 Hours

Total Marks:-

1400






1) The First Question paper of General Studies has a maximum 300 Marks and the time will be 3 hours.


  • There will be two sections 'A' and 'B' in the first question paper of General Studies. Each section will be of 150 Marks. Each section is divided into 05 units according to the syllabus. From each unit, 03 very short answer questions, 02 short answer questions and 01 long answer questions or essay questions will have to be answered. The number of questions can be reduced or increased as required.

  • In each unit, the very short answer will be 03 marks for each question and the short answer will be 05 marks for each question and the long answer will be 11 marks for each question.

  • Thus the maximum marks for each unit will be 30.

  • Similarly, the total maximum marks in both sections 'A' and 'B' will be 150-150.

  • Therefore, the first question paper’s maximum marks will be 300.

  • The ideal word limit of each very short answer question will be 10 words / one line.

  • The ideal word limit for each short answer question will be 50 words / 5 to 6 lines.

  • The ideal word limit for each long answer question will be 200 words.


2) The Second Question paper of General Studies has a maximum of 300 and the time will be 3 hours.


  • There will be two sections 'A' and 'B' in the Second Paper of General Studies. Each section will be of 150 Marks. Each section is divided into 05 units according to the syllabus. From each unit, 03 very short answer questions, 02 short answer questions and 01 long answer questions or essay questions will have to be answered. The number of questions can be reduced or increased as required.

  • In each unit, 03 marks for each very short answer question and 05 marks for each short answer question and 11 marks for each long answer question will be maximum marks.

  • Thus the maximum marks for each unit will be 30.

  • Similarly, the maximum marks in both sections 'A' and 'B' will be 150-150.

  • The first question paper will have a maximum 300 marks.

  • The ideal word limit of each very short answer question will be 10 words / one line.

  • The ideal word limit for each short answer question will be 50 words / 5 to 6 lines.

  • The ideal word limit for each long answer question will be 200 words.


3) The Third Question paper of General Studies has a maximum 300 marks and the time will be 3 hours.


  • The third question paper of General Studies is divided into 10 units. From each unit, 03 very short answer questions, 02 short answer questions and 01 long answer question or essay questions will have to be answered. The number of questions can be reduced or increased as required.

  • In each unit, the very short answer questions will be 03 marks for each question and the short answer questions will be 05 marks for each question and the long answer question will be 11 marks for each question.

  • Thus the maximum marks for each unit will be 30.

  • There will be a maximum 300 marks in this paper.

  • The ideal word limit of each very short answer question will be 10 words / one line.

  • The ideal word limit for each short answer question will be 50 words / 5 to 6 lines.

  • The ideal word limit for each long answer question will be 200 words.




4) In the Fourth Question paper of General Studies, the maximum marks is 200 and the time will be 3 hours.


  • The fourth question paper of General Studies is divided into 05 units, in which from the first to the fourth unit, 05 very short answer questions, 02 short answer questions and 01 long answer question or essay questions will have to be answered from each unit. The number of questions can be reduced or increased as required.

  • From the first to fourth unit, each unit will carry 02 marks for each very short answer question and 05 marks for each short answer question and 20 marks for each long answer question.

  • Thus from the first to the fourth unit, the maximum marks for each unit will be 40.

  • In the fifth unit of the question paper, you will have to write a review note of 02 case studies from the entire syllabus. 20 marks will be awarded for each case study.

  • There will be a total of 200 in this paper.

  • The ideal word limit of each very short answer question will be 10 words / one line.

  • The ideal word limit for each short answer question will be 50 words / 5 to 6 lines.

  • The ideal word limit for each long answer question will be 200 words.

  • The ideal word limit for each case study would be 500 words.



5) The Fifth Question paper has a maximum 200 marks and the time will be 3 hours.


  • The fifth question paper will be of General Hindi and Grammar.

  • In the first question, there will be a total of 25 questions, which will be asked from the entire syllabus. Each question will carry 03 marks.

  • The second question will be related to Alankar. In which 02 questions will be asked. Each question will carry 05 marks.

  • In the third question there will be 02 sub questions in which the translation of sentences from Hindi to English will be of 20 marks and English to Hindi will be of 15 marks. Thus the total marks for translation will be 35.

  • The fourth question will be related to Hindi grammar in which questions will be asked from Sandhi, Samas, punctuation etc. There will be a total of 20 marks in it.

  • The fifth question will be related to elementary grammar and vocabulary. Its total marks will be 20.

  • The sixth question will be related to an unread passage. There will be a total of 20 marks in it.

  • The seventh question will be related to Pallavan or Bhav-Pallavan. It will have a total of 10 marks.

  • The eighth question will be related to summarization of the passage. It will have a total of 10 marks.

  • The number of questions can be reduced or increased as required. A question may also divide in sub questions as needed.


6) Sixth Question paper has a maximum 100 marks and time will be 2 hours.


  • The Sixth Question paper will be of Hindi essay and Format writing.

  • There will be a total of three questions in the question paper.

  • Question number-1 will be the first essay in which an essay of 1000 words will have to be written. The question will have an internal option. This question will be of 50 marks.

  • Question number-2 will be related to the current problem and diagnosis. In which an essay of about 500 words will have to be written in Hindi. The question will have an internal option. This question will be of 25 marks.

  • Question number-3 will be related to format writing. In this, any two formats have to be written in Hindi. The ideal word limit in each format writing would be 250 words. The question will have an internal option. This question will be of 25 marks.

  • The number of questions can be reduced or increased as required. A question may also have sub questions as needed.


 

Interview/Personality Test:- 


This is the last stage of the selection process of MPPSC State Service Recruitment 2020/21.. Candidates who clear the Main exam will be eligible for the interview test conducted by the Commission.

  • Interview Marks- 175

Final Merit List after Interview:-

  • Total Marks- 1575 (1400 + 175)

After which MPPSC will declare the final result of selected candidates.

MPPSC is about to release the State Services Examination 2021 Notification. Every year more than 3 lakh students appear for the exam to get an entry in states’ most prestigious government post. It is very important for the students to get the correct information about the exam pattern before starting the preparation.





MPPSC राज्य सेवा प्रारंभिक परीक्षा पैटर्न 2021: -

MPPSC 2021 का प्रारंभिक परीक्षा पैटर्न नीचे दिया गया है।

 

विषय का नाम

अंक


अवधि 

पेपर 1 (सामान्य अध्ययन)

200

2 घंटे

पेपर 2 (CSAT / सामान्य योग्यता)

200

2 घंटे

कुल:-

400

4 घंटे

 

  • प्रत्येक पेपर में कुल 100 प्रश्न होंगे और प्रत्येक सही उत्तर के लिए छात्र को 2 अंक मिलेंगे।

  • प्रीलिम्स चरण में कुल 400 अंक हैं और कुल अवधि 4 घंटे है।

  • MPPSC राज्य सेवा परीक्षा की प्रारंभिक परीक्षा के लिए कोई नकारात्मक अंकन नहीं है, इसलिए उम्मीदवार को परीक्षा में 100% प्रश्न का उत्तर देने का सुझाव दिया जाता है।

  • प्रश्न पत्र अंग्रेजी और हिंदी दोनों भाषाओं में होगा।

  • परीक्षा के लिए उपस्थित होने वाले उम्मीदवारों को उत्तरों को चिह्नित करने के लिए एक ओएमआर(OMR) शीट प्रदान की जाएगी। उम्मीदवारों को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि वे पूरे सर्कल को ठीक से चिह्नित करें।

  • उम्मीदवारों को ओएमआर(OMR) शीट में दिए गए निर्देशों को ठीक से पढ़ने की सख्त सलाह दी जाती है।

  • मध्य प्रदेश लोक सेवा आयोग (MPPSC) द्वारा निर्धारित कट ऑफ अंक प्राप्त करने वाले अभ्यर्थी ही मुख्य परीक्षा के लिए उत्तीर्ण होंगे।



MPPSC राज्य सेवा मेन्स और साक्षात्कार परीक्षा पैटर्न 2021: -


एमपीपीएससी 2021 के मेन्स और साक्षात्कार परीक्षा पैटर्न नीचे दिया गया है।



विषय का नाम

अंक

अवधि

पेपर -1: सामान्य अध्ययन- I

300

3 घंटे

पेपर -2: सामान्य अध्ययन- II

300

3 घंटे

पेपर -3: सामान्य अध्ययन- III

300

3 घंटे

पेपर -4: सामान्य अध्ययन- IV

200

3 घंटे

पेपर -5: सामान्य हिंदी

200

3 घंटे

पेपर -6: हिंदी निबंध लेखन

100

2 घंटे

कुल मार्क:-

1400



1) सामान्य अध्ययन के प्रथम प्रश्न पत्र में पूर्णांक-300 हैं तथा समय-3 घंटे होगा।


  • सामान्य अध्ययन के प्रथम प्रश्नपत्र में दो खंड 'अ' तथा 'ब' रहेंगे। प्रत्येक खंड 150 अंकों का होगा। प्रत्येक खंड पाठ्यक्रम के अनुसार 05 इकाइयों में विभाजित है। प्रत्येक इकाई से 03 अति लघु उत्तरीय, 02 लघु उत्तरीय तथा 01 दीर्घ उत्तरीय या निबंधात्मक प्रश्नों के उत्तर देने होंगे। प्रश्नों की संख्या आवश्यकतानुसार कम या अधिक की जा सकेगी। 

  • प्रत्येक इकाई में अति लघु उत्तरीय प्रत्येक प्रश्न के लिये 03 अंक तथा लघु उत्तरीय प्रत्येक प्रश्न के लिये 05 अंक एवं दीर्घ उत्तरीय प्रत्येक प्रश्न के लिये 11 अंक पूर्णांक होंगे।

  • इस प्रकार प्रत्येक इकाई के लिये कुल पूर्णांक अंक 30 होंगे। 

  • इसी प्रकार दोनों खंड 'अ' तथा 'ब' में कुल पूर्णांक 150-150 होंगे। 

  • अत: प्रथम प्रश्‍न के पूर्णंक 300 होंगे। 

  • प्रत्येक अति लघु उत्तरीय प्रश्न की आदर्श शब्द सीमा 10 शब्द/ एक पंक्ति होगी। 

  • प्रत्येक लघु उत्तरीय प्रश्न की आदर्श शब्द सीमा 50 शब्द/5 से 6 पंक्तियाँ होंगी। 

  • प्रत्येक दीर्घ उत्तरीय प्रश्न की आदर्श शब्द सीमा 200 शब्द होगी।


2) सामान्य अध्ययन के द्वितीय प्रश्न पत्र में पूर्णांक-300 हैं तथा समय-3 घंटे होगा।


  • सामान्य अध्ययन के द्वितीय प्रश्नपत्र में दो खंड 'अ' तथा 'ब' रहेंगे। प्रत्येक खंड 150 अंकों का होगा। प्रत्येक खंड पाठ्यक्रम के अनुसार 05 इकाइयों में विभाजित है। प्रत्येक इकाई से 03 अति लघु उत्तरीय, 02 लघु उत्तरीय तथा 01 दीर्घ उत्तरीय या निबंधात्मक प्रश्नों के उत्तर देने होंगे। प्रश्नों की संख्या आवश्यकतानुसार कम या अधिक की जा सकेगी।

  • प्रत्येक इकाई में अति लघुत्तरीय प्रत्येक प्रश्न के लिये 03 अंक तथा लघु उत्तरीय प्रत्येक प्रश्न के लिये 05 अंक एवं दीर्घ उत्तरीय प्रत्येक प्रश्न के लिये 11 अंक पूर्णांक होंगे। 

  • इस प्रकार प्रत्येक इकाई के लिये कुल पूर्णांक अंक 30 होंगे। 

  • इसी प्रकार दोनों खंड 'अ' तथा 'ब' में कुल पूर्णांक 150-150 होंगे। 

  • उपर्युक्तानुसार प्रथम प्रश्न पत्र के पूर्णांक 300 होंगे। 

  • प्रत्येक अति लघु उत्तरीय प्रश्न की आदर्श शब्द सीमा 10 शब्द/ एक पंक्ति होगी। 

  • प्रत्येक लघु उत्तरीय प्रश्न की आदर्श शब्द सीमा 50 शब्द/5 से 6 पंक्तियाँ होंगी। 

  • प्रत्येक दीर्घ उत्तरीय प्रश्न की आदर्श शब्द सीमा 200 शब्द होगी।


3) सामान्य अध्ययन के तृतीय प्रश्न पत्र में पूर्णांक-300 हैं तथा समय-3 घंटे होगा।


  • सामान्य अध्ययन के तृतीय प्रश्न पत्र 10 इकाइयों में विभाजित है। प्रत्येक इकाई से 03 अति लघु उत्तरीय, 02 लघु उत्तरीय तथा 01 दीर्घ उत्तरीय या निबंधात्मक प्रश्नों के उत्तर देने होंगे। प्रश्नों की संख्या आवश्यकतानुसार कम या अधिक की जा सकेगी। 

  • प्रत्येक इकाई में अति लघु उत्तरीय प्रत्येक प्रश्न के लिये 03 अंक तथा लघु उत्तरीय प्रत्येक प्रश्न के लिये 05 अंक एवं दीर्घ उत्तरीय प्रत्येक प्रश्न के लिये 11 अंक पूर्णांक होंगे।

  • इस प्रकार प्रत्येक इकाई के लिए कुल पूर्णांक अंक 30 होंगे। 

  • इस प्रश्नपत्र में कुल पूर्णांक 300 होंगे। 

  • प्रत्येक अति लघु उत्तरीय प्रश्न की आदर्श शब्द सीमा 10 शब्द/ एक पंक्ति होगी। 

  • प्रत्येक लघु उत्तरीय प्रश्न की आदर्श शब्द सीमा 50 शब्द/5 से 6 पंक्तियाँ होगी। 

  • प्रत्येक दीर्घ उत्तरीय प्रश्न की आदर्श शब्द सीमा 200 शब्द होगी।


4) सामान्य अध्ययन के चतुर्थ प्रश्न पत्र में पूर्णांक-200 है तथा समय-3 घंटे होगा।


  • सामान्य अध्ययन का चतुर्थ प्रश्न पत्र 05 इकाइयों में विभाजित है जिसमें प्रथम से चतुर्थ इकाई तक, प्रत्येक इकाई से 05 अति लघु उत्तरीय, 02 लघु उत्तरीय तथा 01 दीर्घ उत्तरीय या निबंधात्मक प्रश्नों के उत्तर देने होंगे। प्रश्नों की संख्या आवश्यकतानुसार कम या अधिक की जा सकेगी। 

  • प्रथम से चतुर्थ इकाई तक, प्रत्येक इकाई में अति लघु उत्तरीय प्रत्येक प्रश्न के लिए 02 अंक तथा लघु उत्तरीय प्रत्येक प्रश्न के लिये 05 अंक एवं दीर्घ उत्तरीय प्रत्येक प्रश्न के लिए 20 अंक पूर्णांक होंगे। 

  • इस प्रकार प्रथम से चतुर्थ इकाई तक, प्रत्येक इकाई के लिये कुल पूर्णांक अंक 40 होंगे। 

  • प्रश्न पत्र की पांचवी इकाई में संपूर्ण पाठ्यक्रम से 02 केस स्टडी की समीक्षात्मक टीप लिखनी होगी। प्रत्येक केस स्टडी के लिए 20 अंक प्रदान किए जाएंगे। 

  • इस प्रश्नपत्र में कुल पूर्णांक 200 होंगे। 

प्रत्येक अति लघु उत्तरीय प्रश्न की आदर्श शब्द सीमा 10 शब्द/ एक पंक्ति होगी। 

  • प्रत्येक लघु उत्तरीय प्रश्न की आदर्श शब्द सीमा 50 शब्द/5 से 6 पंक्तियाँ होंगी। 

  • प्रत्येक दीर्घ उत्तरीय प्रश्न की आदर्श शब्द सीमा 200 शब्द होगी। 

  • प्रत्येक केस स्टडी के लिये आदर्श शब्द सीमा 500 शब्द होंगी।



5) पंचम प्रश्न पत्र में पूर्णांक-200 हैं तथा समय-3 घंटे होगा।


  • पंचम प्रश्नपत्र सामान्य हिन्दी एवं व्याकरण का होगा। 

  • प्रथम प्रश्न में लघु उत्तरीय कुल 25 प्रश्न होंगे जो कि सम्पूर्ण पाठ्यक्रम से पूछे जाएंगे। प्रत्येक प्रश्न 03 अंकों का होगा। 

  • द्वितीय प्रश्न अलंकारों से संबंधित होगा। जिसमें 02 प्रश्न पूछे जाएंगे। प्रत्येक प्रश्न 05 अंकों का होगा। 

  • तृतीय प्रश्न में 02 उप प्रश्न होंगे जिनमें वाक्यों का हिन्दी से अंग्रेजी अनुवाद 20 अंकों का तथा अंग्रेजी से हिन्दी में 15 अंकों का होगा। इस प्रकार अनुवाद हेतु कुल अंक 35 होंगे।

  • चतुर्थ प्रश्न हिन्दी व्याकरण से संबंधित होगा जिसमें संधि, समास, विराम चिन्ह इत्यादि से प्रश्न पूछे जाएंगे। इसमें कुल अंक 20 होंगे। 

  • पांचवा प्रश्न प्रारंभिक व्याकरण एवं शब्दावलियों से संबंधित होगा। इसके कुल अंक 20 होंगे। 

  • छठा प्रश्न अपठित गद्यांश से संबंधित होगा। इसमें कुल अंक 20 होंगे।

  • सातवाँ प्रश्न पल्लवन अथवा भाव-पल्लवन से संबंधित होगा। इसमें कुल 10 अंक होंगे। 

  • आठवाँ प्रश्न गद्यांश के संक्षेपण से संबंधित होगा। इसमें कुल 10 अंक होंगे। 

  • प्रश्नों की संख्या आवश्यकतानुसार कम या अधिक की जा सकेगी। आवश्यकतानुसार किसी प्रश्न में उप प्रश्न भी हो सकते हैं।


6) षष्ठ प्रश्न पत्र में पूर्णांक-100 हैं तथा समय-2 घंटे होगा।


  • षष्ठ प्रश्नपत्र हिन्दी निबंध एवं प्रारूप लेखन का होगा। 

  • प्रश्न पत्र में कुल तीन प्रश्न होंगे। 

  • प्रश्न क्रमांक-1 प्रथम निबंध होगा जिसमें किसी एक विषय पर 1000 शब्दों में निबंध हिन्दी में लिखना होगा। प्रश्न में आंतरिक विकल्प होगा। यह प्रश्न 50 अंकों का होगा। 

  • प्रश्न क्रमांक-2 द्वितीय निबंध समसामयिक समस्या एवं निदान से संबंधित होगा। जिसमें किसी एक विषय पर 500 शब्दों में निबंध हिन्दी में लिखना होगा। प्रश्न में आंतरिक विकल्प होगा। यह प्रश्न 25 अंकों का होगा।

  • प्रश्न क्रमांक-3 प्रारूप लेखन से संबंधित होगा। इसमें किन्हीं दो प्रारूपों का लेखन हिन्दी में करना होगा। प्रत्येक प्रारूप लेखन में आदर्श शब्द सीमा 250 शब्द होगी। प्रश्न में आंतरिक विकल्प होगा। यह प्रश्न 25 अंकों का होगा। 

  • प्रश्नों की संख्या आवश्यकतानुसार कम या अधिक की जा सकेगी। आवश्यकतानुसार किसी प्रश्न में उप प्रश्न भी हो सकते हैं।




साक्षात्कार / व्यक्तित्व परीक्षण: -


यह MPPSC 2020-21 राज्य सेवा भर्ती 2020/21 की चयन प्रक्रिया का अंतिम चरण है। मुख्य परीक्षा में उत्तीर्ण अभ्यर्थी आयोग द्वारा आयोजित साक्षात्कार परीक्षा के लिए पात्र होंगे।


साक्षात्कार के अंक- 175


साक्षात्कार के बाद अंतिम मेरिट सूची: -


कुल अंक- 1575 (1400 + 175)


जिसके बाद MPPSC चयनित उम्मीदवारों के अंतिम परिणाम घोषित करेगा।


MPPSC राज्य सेवा परीक्षा 2021 की अधिसूचना जारी करने वाला है। परीक्षा में राज्यों के सबसे प्रतिष्ठित सरकारी पद पर प्रवेश पाने के लिए हर साल 3 लाख से अधिक छात्र परीक्षा देते हैं। तैयारी शुरू करने से पहले छात्रों के लिए परीक्षा पैटर्न के बारे में सही जानकारी प्राप्त करना बहुत महत्वपूर्ण है।


List of Service

MPPSC conducts State Service Examination (Annual Combined Competitive Exams) for recruitment to the following services / posts:

State Service Examination

State Forest Service Examination

State Engineering Service Examination

Assistant Professor Examination

Librarian And Sport Officer Examination 2018

State Eligibility Test 2018

State Service Main Examination

State Service Preliminary Examination

Exam Pattern

Madhya Pradesh Public Service Commission MPPSC
State Service Exam is conducted for recruitment to various posts in government departments and offices of the state of Madhya Pradesh. This exam is conducted in two stages namely the preliminary exam and the main exam. Following the IAS exam pattern aspirants who clear the prelim exam are allowed to appear for the main exam. The number of candidates admitted to appear for the main exam is fifteen times more than the number of available vacancies. However the best candidates who clear the main exam and the following procedure are admitted to various posts in respective government department.

Name of the Paper No. of Questions Duration Given Marks.
Paper I: General Studies. 100 2 Hours. 200
Paper II: Aptitude. 100 2 Hours. 200
Total Marks.     400

Note: The marks which are secured in the prelims are only for qualifying the Mains Examination. It is not counted to determine the order of merit. The Qualifying marksfor Paper II: Aptitude is 33%. But the candidates will be promoted to the Mains only based on the Qualifying marks in Paper I: General Studies.

Eligibility for MPPSC State Service Preliminary Exam :

Age Limit:
Candidates aged between 21 and 40 years of age are eligible to apply for MPPSC State Service Preliminary Exam 2015.
 
Age Relaxation is applicable as per government rules.
 
Educational Qualification:
Graduation in any discipline or equivalent qualification from a recognized university incorporated by an Act of the Central or State Legislature in India.

MPPSC Mains Exam Pattern

The Mains Examination is a written Examination. It consists of 6 Papers which are namely Paper I to Paper VI which are based on Ranking. The Questions will be available in Hindi as well as English in the Question Papers.

S.No. Name of the Paper. Name of the Subject. Hours Marks. Medium
1. Paper-I General studies-I 3 Hours 300 Hindi & English
2. Paper-II General studies-II 3 Hours 300 Hindi & English
3. Paper-III General studies-III 3 Hours 300 Hindi & English
4. Paper-IV General studies-IV 3 Hours 200 Hindi & English
5. Paper-V General Hindi 3 Hours 200 Hindi
6. Paper-VI Essay Writing 2 Hours 100 Hindi & English
Sub-Total.   1400    
Interview.   175  
Total. 1575  

The Final Ranking of the candidates: This is done based on the marks obtained in the Mains and the Interview.


Fee

1- A candidate seeking admission to the Preliminary Examination must pay to the Commission, a fee as decided by the State Government.

2- Payment shall be made through Cross Bank Draft issued by any scheduled Bank. The Draft shall be prepared in favor of the Secretary, Madhya Pradesh Public Service Commission, Indore and payable at Indore.

3- It may be noted that fee sent through Money Order, Cheque, Postal Order or any other mode of payment shall not be accepted by the Commission and such application will be treated as without fee and will be summarily rejected.

4-The candidates admitted to the Main Examination will be required to pay a further fee as decided by the State Government.

5-Fees once paid whether for the Preliminary Examination or for the Main Examination shall not be refunded under any circumstances nor can the fee be held in reserve for any other Examination or Selection.

Contact Detail

The Madhya Pradesh Public Service Commission was constituted in 1956.

One of the main functions of the commission is to conduct examinations and interviews for appointment to various services of the State.

www.mppsc.nic.in/

Contact Details:

Residency Area, Indore (MP) 452 001

EPABX Tel : (0731) 2701624, 2701983

Contact Information for MPPSC Officials

(1) Suraj Damor, Secretary
M.P. Public Service Commission
Tel : (0731) 2701079 Fax : (0731) 2701079
E-mail:[email protected]

(2) Shri Gopal Chandra Dad, Deputy Secretary
M.P. Public Service Commission
Tel : (0731) 2702085

(3) Shri Srikrishna Sharma, Controller of Examination
M.P. Public Service Commission
Tel : (0731) 2700406 Fax : (0731) 270040

Student Queries

How to clear MPPSC Exam
Generally it is said that mppsc pre exam is very simple really it is simple if you follow the pattern of the exam with right strategy, but the cutoff is always very high for mppsc pre exam result.That means for general category students 85 questions must be correct out of 100 to be in a safe zone. You have to make a stratefy for MPPSC preparation study for atleast 4 to 5 hours if you are newcomer, first pre pare for the polity and Bare acts (sc-st prevention act, civil rights act etc).Then General knowledge of madhya pradesh like (dams,rivers,national parks, sanctuaries, folk songs, historical places, tribes,political scenario, sports, Culture, sports awards, fairs in mp, Vojana of mp govt.), read about indian economy and current affairs related to madhya pradesh, india. Pratiyogita darpan, news papers, last year exam papers study all don't let any thing PSC exam.

How many attempts are allowed for MPPSC
Candidates of General Category can give MPPSC any number of times till the age of 40 years old (for general). For SC/ST there is further relaxation of age.

How To Clear MPPSC Exam and Become a PSC Officer

Madhya Pradesh Public Service Commission MPPSC State Service Exam is conducted for recruitment to various posts in government departments and offices of the state of Madhya Pradesh. This exam is conducted in two stages namely the preliminary exam and the main exam. Following the IAS exam pattern aspirants who clear the prelim exam are allowed to appear for the main exam. The number of candidates admitted to appear for the main exam is fifteen times more than the number of available vacancies. However the best candidates who clear the main exam and the following procedure are admitted to various posts in respective government department.

To got the selection in MPPSC & become the PSC officer candidate need to clear the mains exam and third phase that is interview.

The State Government of Madhya Pradesh conduct’s the Madhya Pradesh Public Service Commission (MPPSC) Exam.Popularly known as MPPCS Exam. The MPPCS Exam consists of two papers. First is the General Studies and the Second is the General Aptitude Test. The MPPCS Prelims Examination is a screening examination, and it is conducted to reduce the number of the candidates which can appear in the MPPCS Main Exam.

MPPSC Result of 2018

toppers
toppers
toppers
toppers
toppers
toppers
toppers
toppers
toppers
toppers
toppers
toppers
toppers
toppers
toppers
toppers
toppers
toppers
toppers
toppers
toppers
toppers
toppers
toppers
toppers
toppers
toppers
toppers
toppers
toppers
toppers
toppers
toppers
toppers
toppers
toppers
toppers
toppers
toppers
toppers
toppers
toppers
toppers
toppers
toppers
toppers
toppers
toppers
toppers
toppers
toppers
toppers
toppers
toppers

Faculties

Faculties Name Education
Mr.Rishi Bhonsle HOD English Medium
Indian Constitution and Public Administration
Faced UPSC and MPPSC interview .
Masters in Public Administration.NET-JRF (Public Administration) Qualified.
8 Years of teaching experience
Mr Sameer Gandhe History.
MA in History
Former Network Engineer with HCL Technologies
Appeared in UPSC Prelims,Mains and Interview in very first attempt
Mr.Shanky Kothari Indian Economy and Current Affairs
Faced UPSC Interview-2015
Former Software Engineer at Infosys Technologies
Mr. Dharmendra Tiwar Ethics
MBA from DAVV
Dr.Vikas Sharma Geography and Disaster Management.
Doctor by profession.MBBS from MGM Medical College,Indore
Mr.Nihar Ranja Science and Technology
MSc.Biotechnology
Research Scholar at IITR Lucknow.
Ms.Kratika Kabra Indian Economy
Company Secretary by Profession
BCom,MCom,Hindu College,Delhi University
Mr.Govind Nema Political Science and International Relations
Faced UPSC interview thrice
Software Engineer from NIT,Bhopal
Mr.Apoorv Sharma Geography And Environment-Ecology.
B.E. (RGTU) & MBA (Symbiosis).
Former Project Manager in Raymond, Welspun & CIEL Group(Mauritius)
Mr.Vishal Sakpal Science Technology and Current Affairs
MSc Chemistry from University Of Pune
Mr Sukanto Bhowmik Expertise in CSAT.
10 Years of teaching experience.
Electrical Engineer
Mr.Vikas Oad Indian History And Arts-Culture
Mr Saurabh Yadav Geography
Engineer by Professio
Mr Vikas Singh Governance and Internal Security
Engineer from Vellore Institute Of Technology
Faced UPSC Interview twice, 2015 and 2016
Note 1: For all academic queries please contact
i)Mr.Rishi Bhosle : 9165475465
ii)Mr.Shanky Kothari: 9111321212

सिविल सेवा परीक्षा

सिविल सेवा परीक्षा : एक परिचय
संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी), जो भारत का एक संवैधानिक निकाय है, भारतीय प्रशासनिक सेवा (IAS) और भारतीय पुलिस सेवा (IPS) जैसी अखिल भारतीय सेवाओं तथा भारतीय विदेश सेवा (IFS), भारतीय राजस्व सेवा (IRS), भारतीय रेलवे यातायात सेवा (IRTS) एवं भारतीय कंपनी कानून सेवा (ICLS) आदि जैसी प्रतिष्ठित सेवाओं हेतु अभ्यर्थियों का चयन करने के लिये प्रत्येक वर्ष सिविल सेवा परीक्षा आयोजित करता है। प्रत्येक वर्ष लाखों अभ्यर्थी अपना भाग्य आज़माने के लिये इस परीक्षा में बैठते हैं। तथापि, उनमें से चंद अभ्यर्थियों को ही “राष्ट्र के वास्तुकार” (Architect of Nation) की संज्ञा से विभूषित इन प्रतिष्ठित पदों तक पहुँचने का सौभाग्य प्राप्त होता है। ‘सिविल सेवा परीक्षा’ मुख्यत: तीन चरणों (प्रारंभिक, मुख्य एवं साक्षात्कार) में सम्पन्न की जाती है जिनका सामान्य परिचय इस प्रकार है-

प्रारंभिक परीक्षा:
o सिविल सेवा परीक्षा का प्रथम चरण प्रारंभिक परीक्षा कहलाता है। इसकी प्रकृति पूरी तरह वस्तुनिष्ठ (बहुविकल्पीय) होती है, जिसके अंतर्गत प्रत्येक प्रश्न के लिये दिये गए चार संभावित विकल्पों (a, b, c और d) में से एक सही विकल्प का चयन करना होता है।
प्रश्न से सम्बंधित आपके चयनित विकल्प को आयोग द्वारा दी गई ओएमआर सीट में प्रश्न के सम्मुख दिये गए संबंधित गोले (सर्किल) में उचित स्थान पर काले बॉल पॉइंट पेन से भरना होता है।
सिविल सेवा प्रारंभिक परीक्षा 200 अंकों की होती है।
वर्तमान में प्रारंभिक परीक्षा में दो प्रश्नपत्र शामिल हैं। पहला प्रश्नपत्र ‘सामान्य अध्ययन’ (100 प्रश्न, 200 अंक) का है, जबकि दूसरे को ‘सिविल सेवा अभिवृत्ति परीक्षा’ (Civil Services Aptitude Test) या ‘सीसैट’ (80 प्रश्न, 200 अंक) का होता है और यह क्वालीफाइंग पेपर के रूप में है। सीसैटप्रश्नपत्र में 33% अंक प्राप्त करने आवश्यक हैं।
दोनों प्रश्नपत्रों में ‘निगेटिव मार्किंग की व्यवस्था लागू है जिसके तहत 3 उत्तर गलत होने पर 1 सही उत्तर के बराबर अंक काट लिये जाते हैं।
प्रारंभिक परीक्षा में कट-ऑफ का निर्धारण सिर्फ प्रथम प्रश्नपत्र यानी सामान्य अध्ययन के आधार पर किया जाता है।

मुख्य परीक्षा:
सिविल सेवा परीक्षा का दूसरा चरण ‘मुख्य परीक्षा’ कहलाता है।
प्रारंभिक परीक्षा का उद्देश्य सिर्फ इतना है कि सभी उम्मीदवारों में से कुछ गंभीर व योग्य उम्मीदवारों को चुन लिया जाए तथा वास्तविक परीक्षा उन चुने हुए उम्मीदवारों के बीच आयोजित कराई जाए।
प्रारंभिक परीक्षा में सफल होने वाले उम्मीदवारों को सामान्यतः अक्तूबर-नवंबर माह के दौरान मुख्य परीक्षा देने के लिये आमंत्रित किया जाता है।
मुख्य परीक्षा कुल 1750 अंकों की है जिसमें 1000 अंक सामान्य अध्ययन के लिये (250-250 अंकों के 4 प्रश्नपत्र), 500 अंक एक वैकल्पिक विषय के लिये (250-250 अंकों के 2 प्रश्नपत्र) तथा 250 अंक निबंध के लिये निर्धारित हैं।
मुख्य परीक्षा में ‘क्वालिफाइंग’ प्रकृति के दोनों प्रश्नपत्रों (अंग्रेज़ी एवं हिंदी या संविधान की 8वीं अनुसूची में शामिल कोई भाषा) के लिये 300-300 अंक निर्धारित हैं, जिनमें न्यूनतम अर्हता अंक 25% (75 अंक) निर्धारित किये गए हैं। इन प्रश्नपत्रों के अंक योग्यता निर्धारण में नहीं जोड़े जाते हैं।
मुख्य परीक्षा के प्रश्नपत्र अंग्रेज़ी और हिंदी दोनों भाषाओं में साथ-साथ प्रकाशित किये जाते हैं, हालाँकि उम्मीदवारों को संविधान की आठवीं अनुसूची में शामिल 22 भाषाओं में से किसी में भी उत्तर देने की छूट होती है (केवल साहित्य के विषयों में यह छूट है कि उम्मीदवार उसी भाषा की लिपि में उत्तर लिखे है, चाहे उसका माध्यम वह भाषा न हो)।
गौरतलब है कि जहाँ प्रारंभिक परीक्षा पूरी तरह वस्तुनिष्ठ (Objective) होती है, वहीं मुख्य परीक्षा में अलग-अलग शब्द सीमा वाले वर्णनात्मक (Descriptive) या व्यक्तिनिष्ठ (Subjective) प्रश्न पूछे जाते हैं। इन प्रश्नों में विभिन्न विकल्पों में से उत्तर चुनना नहीं होता बल्कि अपने शब्दों में लिखना होता है। यही कारण है कि मुख्य परीक्षा में सफल होने के लिये अच्छी लेखन शैली बहुत महत्त्वपूर्ण मानी जाती है।

साक्षात्कार:
सिविल सेवा परीक्षा का अंतिम एवं महत्त्वपूर्ण चरण साक्षात्कार (Interview) कहलाता है।
मुख्य परीक्षा मे चयनित अभ्यर्थियों को सामान्यत: अप्रैल- मई माह में आयोग के समक्ष साक्षात्कार के लिये उपस्थित होना होता है।
इसमें न तो प्रारंभिक परीक्षा की तरह सही उत्तर के लिये विकल्प दिये जाते हैं और न ही मुख्य परीक्षा के कुछ प्रश्नपत्रों की तरह अपनी सुविधा से प्रश्नों के चयन की सुविधा होती है। हर प्रश्न का उत्तर देना अनिवार्य होता है और हर उत्तर पर आपसे प्रतिप्रश्न भी पूछे जा सकते हैं। हर गलत या हल्का उत्तर ‘नैगेटिव मार्किंग’ जैसा नुकसान करता है और इससे भी मुश्किल बात यह कि परीक्षा के पहले दो चरणों के विपरीत इसके लिये कोई निश्चित पाठ्यक्रम भी नहीं है। दुनिया में जो भी प्रश्न सोचा जा सकता है, वह इसके पाठ्यक्रम का हिस्सा है। दरअसल, यह परीक्षा अपनी प्रकृति में ही ऐसी है कि उम्मीदवार का बेचैन होना स्वाभाविक है।
यूपीएससी द्वारा आयोजित सिविल सेवा परीक्षा में इंटरव्यू के लिये कुल 275 अंक निर्धारित किये गए हैं। मुख्य परीक्षा के अंकों (1750 अंक) की तुलना में इस चरण के लिये निर्धारित अंक कम अवश्य हैं लेकिन अंतिम चयन एवं पद निर्धारण में इन अंकों का विशेष योगदान होता है।
इंटरव्यू के दौरान अभ्यर्थियों के व्यक्तित्व का परीक्षण किया जाता है, जिसमें आयोग में निर्धारित स्थान पर इंटरव्यू बोर्ड के सदस्यों द्वारा मौखिक प्रश्न पूछे जाते हैं, जिनका उत्तर अभ्यर्थी को मौखिक रूप से ही देना होता है। यह प्रक्रिया अभ्यर्थियों की संख्या के अनुसार सामान्यत: 40-50 दिनों तक चलती है।
मुख्य परीक्षा एवं साक्षात्कार में प्राप्त किये गए अंकों के योग के आधार पर अंतिम रूप से मेधा सूची (मेरिट लिस्ट) तैयार की जाती है।
इस चरण के लिये चयनित सभी अभ्यर्थियों का इंटरव्यू समाप्त होने के सामान्यत: एक सप्ताह पश्चात् अन्तिम रूप से चयनित अभ्यर्थियों की सूची जारी की जाती है।

संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) द्वारा आयोजित सिविल सेवा परीक्षा का प्रारूप इस प्रकार है –
सिविल सेवा परीक्षा का प्रारूप
परीक्षा परीक्षा आयोजन का माह (सामान्यत:) विषय कुल अंक
*1 प्रारंभिक जून सामान्य अध्ययन प्रश्नपत्र I & II प्रश्नपत्र I – 200 प्रश्नपत्र II – 200
मुख्य अक्तूबर –नवंबर (प्रश्नपत्र –I)
(प्रश्नपत्र –II)
(प्रश्नपत्र –III)
(प्रश्नपत्र –IV)
(प्रश्नपत्र –I)
(प्रश्नपत्र –II)
निबंध लेखन
250
250
250
250
250
250
250
*2 अनिवार्य : अंग्रेज़ी
*3 अनिवार्य : भारतीय भाषा
300
300
साक्षात्कार मार्च-अप्रैल व्यक्तित्व परीक्षण 275
नोट: *1 प्रारंभिक परीक्षा में प्राप्त किये गये अंकों को मुख्य परीक्षा एवं साक्षात्कार के अंकों के साथ नहीं जोड़ा जाता है। *2,*3 अनिवार्य अंग्रेज़ी एवं भारतीय भाषा में प्राप्त किये गए अंकों को भी मुख्य परीक्षा एवं साक्षात्कार के अंकों (1750+275=2025) के साथ नहीं जोड़ा जाता है। उम्मीदवार का अंतिम चयन मुख्य परीक्षा एवं साक्षात्कार में प्राप्त किये गये अंकों के योग के आधार पर होता है।

सिविल सेवा ही क्यों ?

आखिर हम सिविल सेवक के रूप में अपना कॅरियर क्यों चुनना चाहते हैं- क्या सिर्फ देश सेवा के लिये? वो तो अन्य रूपों में भी की जा सकती है। या फिर सिर्फ पैसों के लिये? लेकिन इससे अधिक वेतन तो अन्य नौकरियों एवं व्यवसायों में मिल सकता है। फिर ऐसी क्या वजह है कि सिविल सेवा हमें इतना आकर्षित करती है? आइये, अब हम आपको सिविल सेवा की कुछ खूबियों से अवगत कराते हैं जो इसे आकर्षण का केंद्र बनाती हैं।

यदि हम एक सिविल सेवक बनना चाहते हैं तो स्वाभाविक है कि हम ये भी जानें कि एक सिविल सेवक बनकर हम क्या-क्या कर सकते हैं? इस परीक्षा को पास करके हम किन-किन पदों पर नियुक्त होते हैं? हमारे पास क्या अधिकार होंगे? हमें किन चुनौतियों का सामना करना पड़ेगा? इसमें हमारी भूमिका क्या और कितनी परिवर्तनशील होगी इत्यादि।
अगर शासन व्यवस्था के स्तर पर देखें तो कार्यपालिका के महत्त्वपूर्ण दायित्वों का निर्वहन सिविल सेवकों के माध्यम से ही होता है। वस्तुतः औपनिवेशिक काल से ही सिविल सेवा को इस्पाती ढाँचे के रूप में देखा जाता रहा है। हालाँकि, स्वतंत्रता प्राप्ति के लगभग 70 साल पूरे होने को हैं, तथापि इसकी महत्ता ज्यों की त्यों बनी हुई है, लेकिन इसमें कुछ संरचनात्मक बदलाव अवश्य आए हैं।
पहले, जहाँ यह नियंत्रक की भूमिका में थी, वहीं अब इसकी भूमिका कल्याणकारी राज्य के अभिकर्ता (Procurator) के रूप में तब्दील हो गई है, जिसके मूल में देश और व्यक्ति का विकास निहित है।
आज सिविल सेवकों के पास कार्य करने की व्यापक शक्तियाँ हैं, जिस कारण कई बार उनकी आलोचना भी की जाती है। लेकिन, यदि इस शक्ति का सही से इस्तेमाल किया जाए तो वह देश की दशा और दिशा दोनों बदल सकता है। यही वजह है कि बड़े बदलाव या कुछ अच्छा कर गुज़रने की चाह रखने वाले युवा इस नौकरी की ओर आकर्षित होते हैं और इस बड़ी भूमिका में खुद को शामिल करने के लिये सिविल सेवा परीक्षा में सम्मिलित होते हैं।
यह एकमात्र ऐसी परीक्षा है जिसमें सफल होने के बाद विभिन्न क्षेत्रों में प्रशासन के उच्च पदों पर आसीन होने और नीति-निर्माण में प्रभावी भूमिका निभाने का मौका मिलता है।
इसमें केवल आकर्षक वेतन, पद की सुरक्षा, कार्य क्षेत्र का वैविध्य और अन्य तमाम प्रकार की सुविधाएँ ही नहीं मिलती हैं बल्कि देश के प्रशासन में शीर्ष पर पहुँचने के अवसर के साथ-साथ उच्च सामाजिक प्रतिष्ठा भी मिलती है।
हमें आए दिन ऐसे आईएएस, आईपीएस अधिकारियों के बारे में पढ़ने-सुनने को मिलता है, जिन्होंने अपने ज़िले या किसी अन्य क्षेत्र में कमाल का काम किया हो। इस कमाल के पीछे उनकी व्यक्तिगत मेहनत तो होती ही है, साथ ही इसमें बड़ा योगदान इस सेवा की प्रकृति का भी है जो उन्हें ढेर सारे विकल्प और उन विकल्पों पर सफलतापूर्वक कार्य करने का अवसर प्रदान करती है।
नीति-निर्माण में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाने के कारण ही सिविल सेवक नीतिगत सुधारों को मूर्त रूप प्रदान कर पाते हैं।
ऐसे अनेक सिविल सेवक हैं जिनके कार्य हमारे लिये प्रेरणास्रोत के समान हैं। जैसे- एक आईएएस अधिकारी एस.आर. शंकरण जीवनभर बंधुआ मज़दूरी के खिलाफ लड़ते रहे तथा उन्हीं के प्रयासों से “बंधुआ श्रम व्यवस्था (उन्मूलन) अधिनियम,1976” जैसा कानून बना। इसी तरह बी.डी. शर्मा जैसे आईएएस अधिकारी ने पूरी संवेदनशीलता के साथ नक्सलवाद की समस्या को सुलझाने का प्रयास किया तथा आदिवासी इलाकों में सफलतापूर्वक कई गतिशील योजनाओं को संचालित कर खासे लोकप्रिय हुए। इसी तरह, अनिल बोर्डिया जैसे आईएएस अधिकारी ने शिक्षा के क्षेत्र में महत्त्वपूर्ण काम किया। ऐसे अनेक उदाहरण हैं जिनमें इस सेवा के अंतर्गत ही अनेक महान कार्य करने के अवसर प्राप्त हुए, जिसके कारण यह सेवा अभ्यर्थियों को काफी आकर्षित करती है।
स्थायित्व, सम्मान एवं कार्य करने की व्यापक, अनुकूल एवं मनोचित दशाओं इत्यादि का बेहतर मंच उपलब्ध कराने के कारण ये सेवाएँ अभ्यर्थियों एवं समाज के बीच सदैव प्राथमिकता एवं प्रतिष्ठा की विषयवस्तु रही हैं।
कुल मिलाकर, सिविल सेवा में जाने के बाद हमारे पास आगे बढ़ने और देश को आगे बढ़ाने के अनेक अवसर होते हैं। सबसे बढ़कर हम एक साथ कृषि, स्वास्थ्य, शिक्षा, प्रबंधन जैसे विभिन्न क्षेत्रों के विकास में योगदान कर सकते हैं जो किसी अन्य सार्वजनिक क्षेत्र में शायद ही सम्भव है।
सिविल सेवकों के पास ऐसी अनेक संस्थागत शक्तियाँ होती हैं जिनका उपयोग करके वे किसी भी क्षेत्र में आमूलचूल परिवर्तन ला सकते हैं। यही वजह है कि अलग-अलग क्षेत्रों में सफल लोग भी इस सेवा के प्रति आकर्षित होते हैं।
सिविल सेवा परीक्षा के अंतर्गत शामिल प्रत्येक सेवा की प्रकृति और चुनौतियाँ भिन्न-भिन्न हैं। इसलिये आगे हम प्रमुख सिविल सेवाओं के बारे में विस्तार से चर्चा करेंगे, जैसे- उनमें कार्य करने का कितना स्कोप है, प्रोन्नति की क्या व्यवस्था है, हम किस पद तक पहुँच सकते हैं आदि, ताकि अपने ‘कॅरियर’ के प्रति हमारी दृष्टि और भी स्पष्ट हो सके।

सिविल सेवा परीक्षा के विषय में मिथकों ?
हम सभी ने सिविल सेवा परीक्षा (सामान्य रूप में आईएएस परीक्षा के नाम से प्रचलित) की तैयारी को लेकर प्रायः कई मिथकों को सुना है। इनमें से कई कथन इस परीक्षा की तैयारी शुरू करने वाले अभ्यर्थियों को भयभीत करते हैं तो कई अनुभवी अभ्यर्थियों को भी व्याकुल कर देते हैं। निम्नलिखित प्रश्नों के माध्यम से हमारा प्रयास यह है कि अभ्यर्थियों को इन मिथकों से दूर रखते हुए उनका ध्यान परीक्षा पर केन्द्रित करने को प्रेरित किया जाए।

प्रश्न-1: कुछ लोग कहते हैं कि सिविल सेवा परीक्षा सभी परीक्षाओं में सर्वाधिक कठिन परीक्षा है, क्या यह सत्य है?
उत्तर: जी नहीं, यह पूर्णत: सही नहीं है। सिविल सेवा परीक्षा भी अन्य परीक्षाओं की ही तरह एक परीक्षा है, अंतर केवल इनकी प्रकृति एवं प्रक्रिया में है। अन्य परीक्षाओं की तरह यदि अभ्यर्थी इस परीक्षा की प्रकृति के अनुरूप उचित एवं गतिशील रणनीति बनाकर तैयारी करे तो उसकी सफलता की संभावना बढ़ जाती है। ध्यान रहे, अभ्यर्थियों की क्षमताओं में अंतर हो सकता है लेकिन उचित रणनीति एवं निरंतर अभ्यास से कोई लक्ष्य मुश्किल नहीं है।

प्रश्न-2: कहते हैं कि सिविल सेवा परीक्षा में सफल होने के लिये प्रतिदिन 16-18 घंटे अध्ययन करना आवश्यक है, क्या यह सत्य है?
उत्तर: सिविल सेवा परीक्षा सामान्यत: तीन चरणों (प्रारंभिक, मुख्य परीक्षा एवं साक्षात्कार) में आयोजित की जाती है, जिनमें प्रत्येक चरण की प्रकृति एवं रणनीति अलग-अलग होती हैं। ऐसे में यह कहना कि इस परीक्षा में सफल होने के लिये प्रतिदिन 16-18 घंटे अध्ययन करना आवश्यक है, पूर्णत: सही नहीं है। सफलता, पढ़ाई के घंटों के अलावा अन्य पहलुओं पर भी निर्भर करती है। अभ्यर्थियों की क्षमताओं में अंतर होना स्वाभाविक है, हो सकता है किसी विषय को कोई अभ्यर्थी जल्दी समझ ले और कोई देर में, फिर भी अगर कोई अभ्यर्थी कुशल मार्गदर्शन में नियमित रूप से 8 घंटे पढ़ाई करता है तो उसके सफल होने की संभावना बढ़ जाती है।

प्रश्न-3: मैं कुछ व्यक्तिगत कारणों से दिल्ली नहीं जा सकता हूँ। कुछ लोग कहते हैं कि इस परीक्षा में सफलता प्राप्त करने के लिये दिल्ली में इसकी कोचिंग करनी आवश्यक है, क्या यह सत्य है?
उत्तर: जी नहीं, यह पूर्णत: सही नहीं है। विगत वर्षों के परीक्षा परिणामों को देखें तो कई ऐसे अभ्यर्थी इस परीक्षा में उच्च पदों पर चयनित हुए हैं, जिन्होंने घर पर ही स्वाध्याय किया। उचित एवं गतिशील रणनीति, स्तरीय अध्ययन सामग्री, जागरूकता, ईमानदारीपूर्वक किया गया प्रयास इत्यादि सफलता की कुंजी हैं। कोचिंग संस्थान आपको एक दिशा-निर्देश देते हैं जिस पर अंततः आपको ही चलना होता है। वर्तमान में कई प्रतिष्ठित कोचिंग संस्थानों के नोट्स बाज़ार में उपलब्ध हैं जिनका अध्ययन किया जा सकता है। ‘दृष्टि’ संस्था इस बात से भली-भाँति अवगत है कि किसी गाँव/शहर में रहकर सिविल सेवा में जाने का सपना पाले कई अभ्यर्थी उचित दिशा-निर्देशन एवं सटीक सामग्री के अभाव में अधूरी तैयारी तक सीमित रहने को विवश होते हैं। वे आर्थिक, पारिवारिक, व्यावसायिक आदि कारणों से कोचिंग कक्षा कार्यक्रम से नहीं जुड़ पाते हैं। इसके अतिरिक्त, बाज़ार में बड़ी मात्रा में मौजूद स्तरहीन पाठ्य सामग्रियाँ भी इन अभ्यर्थियों को भटकाव के पथ पर ले जाती हैं। इस बात को ध्यान में रखते हुए ‘दृष्टि’ ने “दूरस्थ शिक्षा कार्यक्रम” (डी.एल.पी.) के तहत सिविल सेवा परीक्षा प्रारूप का अनुकरण कर सामान्य अध्ययन (प्रारंभिक और मुख्य परीक्षा), सीसैट (प्रारंभिक परीक्षा), हिन्दी साहित्य तथा दर्शनशास्त्र (वैकल्पिक विषय) की अतुलनीय पाठ्य-सामग्री तैयार की है। ‘दृष्टि डी.एल.पी.’ का मूल दृष्टिकोण सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी कर रहे उन अभ्यर्थियों तक सिविल सेवा से जुड़ी उपयुक्त एवं समुचित अध्ययन सामग्री की सुगम पहुँच बनाना है जो किसी कारणवश कोचिंग संस्था के स्तर पर मार्गदर्शन लेने में असमर्थ हैं।

प्रश्न-4: कुछ लोग कहते हैं कि यह परीक्षा एक बड़े महासागर के समान है और इसमें प्रश्न पाठ्यक्रम से बाहर से भी पूछे जाते हैं। वे यह भी कहते हैं कि इसमें प्रश्न उन स्रोतों से पूछे जाते हैं जो सामान्यतः अभ्यर्थियों की पहुँच से बाहर होते हैं, क्या यह सत्य है?
उत्तर: जी नहीं, यह बिल्कुल गलत है। यूपीएससी अपने पाठ्यक्रम पर दृढ़ है। सामान्य अध्ययन के कुछ प्रश्नपत्रों के कुछ शीर्षकों के उभयनिष्ठ (Common) होने के कारण सामान्यत: अभ्यर्थियों में यह भ्रम उत्पन्न होता है कि कुछ प्रश्न पाठ्यक्रम से बाहर पूछे गए हैं जबकि वे किसी-न-किसी शीर्षक से संबंधित रहते हैं। आपको इस प्रकार की भ्रामक बातों पर ध्यान नहीं देना चाहिये। यूपीएससी का उद्देश्य योग्य अभ्यर्थियों का चयन करना है न कि अभ्यर्थियों से अनावश्यक प्रश्न पूछकर उन्हें परेशान करना।

प्रश्न-5: लाखों अभ्यर्थी इस परीक्षा में भाग लेते हैं जबकि कुछ मेधावी अभ्यर्थी ही आईएएस बनते हैं। इस प्रश्न को लेकर मेरे मन में भय उत्पन्न हो रहा है, कृपया उचित मार्गदर्शन करें ?
उत्तर: आपको भयभीत होने की आवश्यकता नहीं है, यद्यपि इस परीक्षा के लिये लाखों अभ्यर्थी आवेदन करते हैं और इस परीक्षा में सम्मिलित होते हैं, परन्तु वास्तविक प्रतिस्पर्द्धा केवल 8-10 हज़ार गंभीर अभ्यर्थियों के बीच ही होती है। ये वे अभ्यर्थी होते हैं जो व्यवस्थित ढंग से और लगातार अध्ययन करते हैं और इस परीक्षा में सफल होते हैं। यदि आप भी ऐसा ही करते हैं तो आप भी उन सभी में से एक हो सकते हैं। तैयारी आरंभ करने से पूर्व आपको भयभीत नहीं होना है। आपको इस दौड़ में शामिल होना चाहिये तथा इसे जीतने के लिये कड़ी मेहनत करनी चाहिये।

प्रश्न-6: कुछ लोग कहते हैं कि इस परीक्षा को पास करने के लिये भाग्य की ज़रूरत है, क्या यह सत्य है ?
उत्तर: यदि आप भाग्य को मानते हैं तो स्पष्ट रूप से इस बात को समझ लें कि इस परीक्षा को पास करने में भाग्य का योगदान मात्र 1% और आपके परिश्रम का 99% है। आप अपने हाथों से सफलता के 99% अंश को न गवाएँ। यदि आप ईमानदारी से परिश्रम करेंगे तो भाग्य आपका साथ अवश्य देगा। ध्यान रहे, ‘ईश्वर उन्हीं की सहायता करता है जो अपनी सहायता स्वयं करते हैं’।

प्रश्न-7: वैकल्पिक विषयों का चयन कैसे करें? कुछ लोगों का मानना है कि ऐसे विषय का चयन करना चाहिये जिसका पाठ्यक्रम अन्य विषयों की तुलना में छोटा हो और जो सामान्य अध्ययन में भी मदद करता हो, क्या यह सत्य है ?
उत्तर: उपयुक्त वैकल्पिक विषय का चयन ही वह निर्णय है जिस पर किसी उम्मीदवार की सफलता का सबसे ज़्यादा दारोमदार होता है। विषय चयन का असली आधार सिर्फ यही है कि वह विषय आपके माध्यम में कितना ‘ स्कोरिंग’ है? विषय छोटा है या बड़ा, वह सामान्य अध्ययन में मदद करता है या नहीं, ये सभी आधार भ्रामक हैं। अगर विषय छोटा भी हो और सामान्य अध्ययन में मदद भी करता हो किंतु दूसरे विषय की तुलना में 50 अंक कम दिलवाता हो तो उसे चुनना निश्चित तौर पर घातक है। भूलें नहीं, आपका चयन अंततः आपके अंकों से ही होता है, इधर-उधर के तर्कों से नहीं। इस संबंध में विस्तार से समझने के लिये “’कैसे करें वैकल्पिक विषय का चयन’” शीर्षक को पढ़ें|

प्रश्न-8: वैकल्पिक विषयों के चयन में माध्यम का क्या प्रभाव पड़ता है? कुछ लोगों का मानना है कि हिंदी माध्यम की तुलना में अंग्रेज़ी माध्यम के अभ्यर्थी ज़्यादा अंक प्राप्त करते हैं, क्या यह सत्य है?
उत्तर: जी नहीं, यह पूर्णत: सही नहीं है। किसी विषय में अच्छे अंक प्राप्त करना उम्मीदवार की उस विषय में रुचि, उसकी व्यापक समझ, स्तरीय पाठ्य सामग्री की उपलब्धता, अच्छी लेखन शैली एवं समय प्रबंधन इत्यादि पर निर्भर करता है। अभ्यर्थी को उसी विषय का चयन वैकल्पिक विषय के रूप में करना चाहिये जिसमें वह सहज हो। हिंदी माध्यम के अभ्यर्थी उन्हीं विषयों या प्रश्नपत्रों में अच्छे अंक (यानी अंग्रेज़ी माध्यम के गंभीर उम्मीदवारों के बराबर या उनसे अधिक अंक) प्राप्त कर सकते हैं जिनमें तकनीकी शब्दावली का प्रयोग कम या नहीं के बराबर होता हो, अद्यतन जानकारियों की अधिक अपेक्षा न रहती हो और जिन विषयों पर पुस्तकें और परीक्षक हिंदी में सहजता से उपलब्ध हों।

प्रश्न-9: कुछ लोग कहते हैं कि आईएएस की नियुक्ति में भ्रष्टाचार होता है, क्या यह सत्य है ?
उत्तर: यह आरोप पूर्णतः गलत है। यह पूरी परीक्षा इतनी निष्पक्ष है कि आप इस पर आँख बंद करके विश्वास कर सकते हैं। परीक्षा के संचालन के तरीके में खामी हो सकती है लेकिन सिविल सेवा अधिकारियों की नियुक्ति में भ्रष्टाचार नहीं होता है। इनकी नियुक्तियाँ निष्पक्ष होती हैं। आप इस पर विश्वास कर सकते हैं।

Kautilya Academy App Online Test Series

MPPSC Mains Online Test Series 2020-21